Reaching God

मनुष्य खूद ईश्वर तक नही पहुँचता,बल्कि जब वो तैयार हो जाता है,ईश्वर स्वयं उस तक आ जाता है।। — बाबाजी

A man by himself does not reach God, rather, it is God Himself who reaches unto him, when a person is ready. — Shivananda


Un hombre por sí mismo no alcanza a Dios, sino que es Dios mismo quien se acerca a él, cuando una persona está lista. — Babaji

What will other people say

New Year Blessings from Babaji Sai Shivananda
नव वर्ष का प्रेम और आर्शीवाद सबको।
नव वर्ष नई उमंग और नई सोच के साथ जीवन की हर खुशी प्रदान करे।

Vishwaguru Sri Shivananda Kangra

दुनिया का सबसे बड़ा रोग है,कि “क्या कहेगें लोग”!जिदगीं मे आप जो करना चाहते हैं वो जरूर कीजिए!ये मत सोचिये की लोग क्या कहेंगे।क्यूंकि लोग तो तब भी कुछ कहते है,जब आप कुछ नही करते।। बाबाजी।।

The biggest malaise of this world is the fear or concern about what other people will say? Go ahead and do what ever it is that you wish to do in life. Do not be concerned about what people will say, because people will anyway say something even if you don’t do anything. — Shivananda

On evil

बुराई को छोड़ने की इतनी चिंता मत करो।बुराई आती कहाँ से है,इसकी खोज करो।। बाबाजी।।

“Don’t worry so much about giving up the bad or the evil rather, scrutinise and trace where the bad or evil originates from.”- Shivananda

Awaken

सांस जाए उससे पहले जाग जाओ। सांस जाए उससे पहले समाधि का थोड़ा अनुभव कर लो। तुम्हे भेजा गया है हीरे की खदान पर और तुम ककंड़ पत्थर दूढ़ने मे मस्त हो। और इस मस्ती मे एक दिन खबर मिलेगी कि चलो समय पूरा हो गया।।– बाबाजी

Awaken before the last breath leaves you. Experience that Samadhi, that Higher Consciousness or the Higher Self at least a little, before the last breath leaves you! You have been sent to a Diamond quarry but here you are, lost in the illusory delight of collecting worthless stones & pebbles. Whilst you are still lost in this futile pursuit, one fine day you will be notified that your time is up! — Shivananda

अब वक्त कम है। बस दो दिन बाद 2020 शुरू होगा।। मै एक बात से हैरान हुँ,कि दुनिया मस्त है।।बाबाजी14फरवरी के बाद पूरा बाबाजी ही नजर आयेगा।।जागो अंधेरा होने से पहले।। किसी भी उपदेश को हाथ जोड़कर फूल भेज कर या बहुत सुंदर बोल कर कुछ नही होगा।अब तो नींद से जागो।। — बाबाजी

Time is short now. Only two days remain for year 2020 to commence. I am astonished to see that the world is still lost in it’s own illusory joys & indulgences. Babaji, after the 14th of Feb, will appear only as Babaji in totality. Awaken before the darkness sets in. Merely sending emoticons of folded hands or flowers or commenting ‘very beautiful’ to my advice or teachings or messages is not going to yield any worthy outcomes. At least now, awaken from your slumber. — Shivananda

On Darkness

अंधेरे से लड़ो मत, थक जाओगे। ध्यान का दीपक जलाओ। अंधेरा स्वयं ही दूर हो जायेगा।।– बाबाजी

Do not fight with darkness, you will end up being exhausted! Light the lamp of meditation and the darkness shall be dispelled by itself. — Shivananda

On being Still

कौन कहाँ पहुँचा है चलकर, तुम भी न पहुँचोगे। कोई कभी चलकर नही पहुँचा।
जो पहुंचे रूककर पहुंचे। जिन्होने जाना ठहर कर ही जाना।
देखो बुद्ध की प्रतिमा को। चलते हुये मालूम पड़ते हैं?
पर सत्यता में बैठें हैं। जब तक चलते थे नही पहुँचे।
जब बैठ गये,तो पहुँच गये।। — बाबाजी

Who has reached whither by being in motion? You too will not get to any place by doing so. Nobody has ever reached merely by moving or walking. Those who have paused are the ones who have reached. Those who have known, have known so only by halting. Look at The Buddha’s idol. Does He appear to be moving? Yet, He sits steeped in Truth! Until He was moving he did not reach. When He sat still, He reached the destination.– Shivananda

On Love

ये कोई मायने नही रखता है कि आप किसे “प्यार करते हैं,
कहाँ प्यार करते हैं,क्यों प्यार करते हैं,कब “प्यार करते हैं,
कैसे प्यार करते हैं,और किस के लिए प्यार करते हैं।मायने
सिर्फ ये रखता है,कि आप केवल “प्यार करते हैं।। बाबाजी।

It is not of particular significance Whom you Love, Where you Love, Why you Love, When you Love, How you Love and for What purpose or for Whose sake you Love. What is really significant is only that You Love! – Shivananda

Awake, arise

अगर तुम पाओ कि यहाँ आखिर मे हार ही हाथ लगती है, तो जल्दी करना।।
अगर तुम पाओ कि यहाँ सिकन्दर भी आखिर मे हारे हुये पाये जाते हैं।।
तो अब जागने की धड़ी आ गई है। यहाँ सब हार जाते है।।
यह जीवन जुआ ही ऐसा है।।
जीतते केवल वही हैं,जो चाह से मुक्त हो जाते हैं।
-जो चाह की व्यर्थता को देख लेते हैं।
-जो तृष्णा की दौड़ मे जाग जाते हैं।।
-जो वासना से हट कर प्रार्थना मे लीन हो जाते हैँ।।
ध्यान में लीन हो जाते हैं।
जागो! जागने का नाम ही बुद्धत्व है।
जागो! जीवन से,जागो मृत्यु से।
बस जागो! और देर ना करो।।
जो जाग जायेगा,वही जीवन के पाम धन को पायेग।
वही परम सुख को पायेगा।। — बाबाजी।

If you realise that over here what you finally secure is only defeat, then hurry up! If you realise that even the greatest lie here in defeat ultimately, then the time has come for your awakening. Here, everyone ends up in defeat finally. The game of life itself is designed to be like that. Only those who are liberated from desires, succeed here. They are those who see through the wastefulness of desire; who awaken to the futility of their pursuit of desires; who step away from desires to lose themselves in prayer and meditation instead. Awaken! For it is this awakening which is also described as Buddhatva. Awaken from this illusion of life and death! Just awake and arise, and do not delay any further! — Shivananda

Taking a plunge into spirituality

दुनिया कहती है, कूदने से पहले दो बार सोचो।
मै कहता हूं पहले कूदो फिर जितना सोचना है उतना सोचो।। बाबाजी

The world says, think twice before you jump. I say, first jump and then think all you want to think! — Shivananda

Desire to impress others

जब तक तुम किसी को प्रभावित करना चाहते हो,तब तक तुम मान लो,तुम अंहकार से ग्रसित हो।।। बाबाजी।।

Until such time that you desire to impress others, know that you are eclipsed by Ego. — Shivananda