Om Namah Shambave

सभी को सप्रेम नमस्कार ।
हम सब बहुत ही भाग्यशाली हैं कि हमें भगवान सत्यसाई युग के साथ भगवान शिवानन्द युग में भी ईश्वर कृपा प्राप्त करने का सौभाग्य मिला है।
अब तक हम सब ने सामान्य अभिवादन एवं नामस्मरण हेतु ” साईराम ” शब्द का प्रयोग किया है।
अब भगवान शिवानन्द युग अपनी पूरी आभा के साथ प्रभावशील हो चुका है। आप सब से विनम्र अनुरोध है कि अभिवादन एवं नामस्मरण हेतु “ॐ नमः शम्भवे” का प्रयोग करें।
इस प्रकार हम सब भगवान शिवानन्द के और भी समीप होंगे और उनकी अक्षय कृपा के पात्र होंगे। धन्यवाद । ।। ॐ नमः शम्भवे ।।

Greetings to all!
We all are extremely lucky to be blessed by God’s grace even in the ‘Era of bhagwan Shivananda’ along with the ‘Era of bhagwan Satya Sai’.
We have been reciting the holy word “Sairam” in order to pay our obeisance and simply for namasmaran all this time. Now that the ‘Shivananda Era’ has emerged in its full form, it is a humble request to all of you to recite “Om Namah Shambhave” for both namasmaran and to pay him your obeisance. This way we all will be bestowed by his blessings and will get closer to Bhagwan Shivananda.
Thank you.
Om Namah Shambave